महिला ई-हाट

महिला उद्यमियों/स्वत: सहायता समूहों/गैर-सरकारी संगठनों की सहायता के लिए 07 मार्च, 2016 को शुरू किया गया "महिला ई-हाट" एक विशिष्ट प्रत्योक्ष ऑनलाइन विपणन मंच है । इसका उद्देश्य तकनीक को लाभकारी बनाकर महिला उद्यमियों / स्वक: सहायता समूहों / गैर-सरकारी संगठनों द्वारा तैयार किए / निर्मित किए / बेचे जाने वाले उत्पादों और उनकी रचनात्मक क्षमता दर्शाने वाली सेवाओं के प्रदर्शन हेतु एक विपणन मंच प्रदान करना है । इस ऑनलाइन विपणन मंच का यूएसपी विक्रेता और खरीदकर्त्ता के बीच सीधे संपर्क की सुविधा प्रदान करता है । ई-हाट के पूरे व्यवसाय को मोबाइल के जरिये उपयोग किया जा सकता है । खरीदकर्त्ता द्वारा विक्रेता से व्यहक्तिगत रूप से, टेलीफोन के माध्यउम से, ई-मेल आदि के जरिए संपर्क किया जा सकता है ।

नारी

  •   पूरी तरह से ऑनलाइन

यह ई-पोर्टल है जो महिलाओं के हित में 350 सरकारी स्कीमो, जिसमें प्रति दिन और भी जोडी जा रही हैं, को संक्षेप में प्रस्तुत करता है। यह इन स्कीमों के साथ-साथ ऑन-लाइन आवेदन करने की पहुंच और शिकायत निवारण के लिए लिंक प्रदान करता है। यह महिलाओं को उनके जीवन को प्रभावित करने वाले मुद्दों जैसे बेहतर पोषण, स्वास्थ्य-जांच के लिए सुझाव, प्रमुख बीमारियों के संबंध में सूचनाएं, नौकरी ढूढने और साक्षात्कार के लिए युक्तियां, निवेश और बचत सलाह, अपराधों और महिलाओं के विरुद्ध सूचना और रिपोर्टिंग प्रणाली, कानूनी सहायता प्रकोष्ठों से सम्पर्क, सरलीकृत दत्तक ग्रहण प्रक्रिया और अन्य विविध जानकारी प्रदान करता है।

राष्‍ट्रीय महिला कोष

  •   सूचनात्‍मक

राष्‍ट्रीय महिला कोष (आरएमके) महिला एवं बाल विकास मंत्रालय (एमडब्‍ल्‍यूसीडी) के संरक्षण में सोसायटी पंजीकरण अधिनियम, 1860 के अंतर्गत पंजीकृत और सन् 1993 में स्‍थापित एक उच्‍च माइक्रो-वित्‍त संगठन है। आरएमके की स्‍थापना का मुख्‍य उद्देश्‍य महिलाओं का सामाजिक-आर्थिक विकास करने के लिए ग्राहक अनुकूल प्रक्रिया में रियायती दरों पर विभिन्‍न आजीविका समर्थन तथा आय उत्‍पादन गतिविधियों के लिए गरीब महिलाओं को सूक्ष्‍म ऋण प्रदान करना था।