महिला और बाल विकास मंत्रालय

16 सेवाएं

ई -बाल निदान

ई- बाल निदान बाल अधिकार संरक्षण आयोग अधिनियम, 2005 के अंतर्गत बालकों के किसी भी अधिकार के उलंघन के विरुद्ध राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग को शिकायत करने के लिए एक ऑनलाइन शिकायत प्रबंधन व्यवस्था है | शिकायत कर्ता को उसकी शिकायत पर की जा रही कार्यवाई के विषय में ई -मेल /एस एम एस के द्वारा सूचित किया जाता है | शिकायत की नवीनतम स्थिति ई-बाल निदान पर भी देखी जा सकती है| शिकायत कर्ता की पहचान गोपनीय रखी जाती है |

पोक्सो ई -बॉक्स

पोक्सो ई -बॉक्स लैंगिक अपराधों से बालाकों का संरक्षण अधिनियम , 2012 के अंतर्गत बच्चों के लैंगिक शोषण के विरुद्ध राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग को शिकायत करने के लिए एक सुगम एवं सीधी रपट-प्रणाली है | शिकायत कर्ता की पहचान गोपनीय रखी जाती है |

महिला ई-हाट

महिला उद्यमियों/स्वत: सहायता समूहों/गैर-सरकारी संगठनों की सहायता के लिए 07 मार्च, 2016 को शुरू किया गया "महिला ई-हाट" एक विशिष्ट प्रत्योक्ष ऑनलाइन विपणन मंच है । इसका उद्देश्य तकनीक को लाभकारी बनाकर महिला उद्यमियों / स्वक: सहायता समूहों / गैर-सरकारी संगठनों द्वारा तैयार किए / निर्मित किए / बेचे जाने वाले उत्पादों और उनकी रचनात्मक क्षमता दर्शाने वाली सेवाओं के प्रदर्शन हेतु एक विपणन मंच प्रदान करना है । इस ऑनलाइन विपणन मंच का यूएसपी विक्रेता और खरीदकर्त्ता के बीच सीधे संपर्क की सुविधा प्रदान करता है । ई-हाट के पूरे व्यवसाय को मोबाइल के जरिये उपयोग किया जा सकता है । खरीदकर्त्ता द्वारा विक्रेता से व्यहक्तिगत रूप से, टेलीफोन के माध्यउम से, ई-मेल आदि के जरिए संपर्क किया जा सकता है ।

समेकित बाल विकास प्रणाली की तीव्र सूचना प्रणाली

एकीकृत बाल विकास योजना के अंतर्गत, तीव्र सूचना प्रणाली तैयार की गई है जिसमें रजिस्‍टरों के नए फॉरमेट तथा मासिक प्रगति रिपोर्ट (एपीआर) तथा वार्षिक स्‍थिति रिपोर्ट (एएसआर) की रिपोर्टिंग आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं (एडब्‍ल्‍यूडब्‍ल्‍यू) और बाल विकास परियोजना अधिकारी (सीडीपीओ) स्‍तर पर निर्धारित की गई है। कोई भी नागरिक इस पोर्टल के माध्‍यम से अपने निकटवर्ती आंगनवाड़ी केंद्रों के बारे में जान सकता है।

आईसीडीएस पदाधिकारियों द्वारा आईएसएसएनआईपी (पोषण) जिलों में आंगनवाड़ी केन्‍द्रों में गतिविधियों की रियल टाइम मॉनिटरिंग

आईसीडीएस - कॉमन एप्लिकेशन सॉफ्टवेयर (सीएएस) पोषण अभियान का एक प्रमुख घटक है । इस अभियान के तहत आंगनवाड़ी कार्यकर्त्रियों तथा महिला पर्यवेक्षकों को पूर्व-स्‍थापित कॉमन एप्लिकेशन सॉफ्टवेयर स्‍मार्ट फ़ोन / टैबलेट दिया गया है । सॉफ्टवेयर एप्लिकेशन फ्रंटलाइन कार्यकर्ताओं द्वारा डाटा एकत्र करने की सुविधा प्रदान करता है और एक छः-स्तरीय डैशबोर्ड निगरानी तंत्र सुनिश्चित करता है । आईसीडीएस - सीएएस से 8.2 किलोग्राम पेपर रजिस्टर को अब एक 173 ग्राम वाले स्मार्टफोन से बदला गया है । यह मोबाइल एप्लिकेशन पर विकास चार्ट की ऑटो प्लॉटिंग की मदद से बच्‍चों की विकास संबंधी निगरानी को सक्षम बनाता है; आंगनवाड़ी कार्यकर्त्रियों द्वारा प्राथमिकता के आधार पर लाभार्थियों पर ध्यान केंद्रित करने के लिए यह कार्य-सूची तथा गृह भ्रमण अनुसूची स्‍वत: तैयार करता है । लाभार्थियों और हितधारकों को सिस्टम द्वारा जेनरेट किए गए एसएमएस अलर्ट भेजे जाते हैं । ब्लॉक स्तर, जिला स्तर, राज्य स्तर और राष्ट्रीय स्तर पर विभिन्न कार्यकर्ताओं द्वारा लॉगिन आई डी एवं पासवर्ड के माध्यम से डैशबोर्ड पर उप्लब्ध डाटा को वास्तविक समय के आधार पर देखा जा सकता है ।

नारी

यह ई-पोर्टल है जो महिलाओं के हित में 350 सरकारी स्कीमो, जिसमें प्रति दिन और भी जोडी जा रही हैं, को संक्षेप में प्रस्तुत करता है। यह इन स्कीमों के साथ-साथ ऑन-लाइन आवेदन करने की पहुंच और शिकायत निवारण के लिए लिंक प्रदान करता है। यह महिलाओं को उनके जीवन को प्रभावित करने वाले मुद्दों जैसे बेहतर पोषण, स्वास्थ्य-जांच के लिए सुझाव, प्रमुख बीमारियों के संबंध में सूचनाएं, नौकरी ढूढने और साक्षात्कार के लिए युक्तियां, निवेश और बचत सलाह, अपराधों और महिलाओं के विरुद्ध सूचना और रिपोर्टिंग प्रणाली, कानूनी सहायता प्रकोष्ठों से सम्पर्क, सरलीकृत दत्तक ग्रहण प्रक्रिया और अन्य विविध जानकारी प्रदान करता है।

शी बाक्स

यह कार्य-स्थल पर लैंगिक उत्पीडन से संबंधित शिकायतों को दर्ज करने के लिए ऑनलाइन शिकायत प्रबंधन प्र्णाली है। कोई भी काम-काजी महिला अथवा केंद्रीय सरकार के किसी कार्यालय ( केंद्रीय मंत्रालय, विभाग, सार्वजनिक क्षेत्र का उपक्रम, स्वायत निकाय और संस्था, आदि) का दौरा करने वाली महिला कार्य-स्थल पर लैंगिक उत्पीडन के संबंध में महिला बाक्स (एसएचई-बाक्स) के जरिये शिकायत दर्ज कर सकती है।

राष्‍ट्रीय महिला कोष

राष्‍ट्रीय महिला कोष (आरएमके) महिला एवं बाल विकास मंत्रालय (एमडब्‍ल्‍यूसीडी) के संरक्षण में सोसायटी पंजीकरण अधिनियम, 1860 के अंतर्गत पंजीकृत और सन् 1993 में स्‍थापित एक उच्‍च माइक्रो-वित्‍त संगठन है। आरएमके की स्‍थापना का मुख्‍य उद्देश्‍य महिलाओं का सामाजिक-आर्थिक विकास करने के लिए ग्राहक अनुकूल प्रक्रिया में रियायती दरों पर विभिन्‍न आजीविका समर्थन तथा आय उत्‍पादन गतिविधियों के लिए गरीब महिलाओं को सूक्ष्‍म ऋण प्रदान करना था।

प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना

प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना के अंतर्गत पात्र लाभ प्राप्‍तकर्ताओं को पीएमएमवीवाई-सीएएस पोर्टल के माध्‍यम से पात्र लाभ प्राप्‍तकर्ताओं के खाते में सीधे ही 5000/- रुपये प्रदान किए जाते हैं। यह प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना (पीएमएमवीवाई) के कार्यान्‍वयन एवं निगरानी के लिए ब्‍लॉक, जिला, राज्‍य और राष्‍ट्रीय स्‍तर पर कार्यरत कर्मचारियों की पहुंच में है। ब्‍लॉक स्‍तर पर पीएमएमवीवाई के अंतर्गत आंगनवाड़ी केंद्रों/अनुमोदित स्‍वास्‍थ्‍य सेवाओं में प्राप्‍त पात्र लाभ प्राप्‍तकर्ताओं के आंकड़ों का डिजिटिकरण/अनुमोदन राज्‍य स्‍तर पर नोडल अधिकारी द्वारा लाभ प्राप्‍तकर्ताओं के बैंक/डाकखाने के खाते में भुगतान करने के लिए किया जाता है।

महिलाओं के लिए सरकार की योजनाओं की जांच

उपयोगकर्ताओं को ऑनलाइन योजनाओं और महिलाओं के सशक्तिकरण के लिए उपलब्ध कार्यक्रमों की जांच कर सकते हैं। इस ऑनलाइन सेवा महिलाओं के सशक्तिकरण, महिलाओं की एवं बाल विकास मंत्रालय के लिए राष्ट्रीय मिशन ने साबित कर दिया है। आप योजना / कार्यक्रम आप के लिए उपलब्ध खोजने के लिए कसौटी का चयन कर सकते हैं।

मंत्रालयों से संबंधित सेवाएं