बैंकिंग और बीमा

24 सेवाएं

स्टैंड-अप इंडिया (एसयूपीआई)

  •   सूचनात्‍मक

एसयूपीआई योजना ग्रीनफील्ड उद्यमों को शुरू करने में अनुसूचित जाति, अनुसूचित जन-जाति एवं महिला उद्यमियों जैसे असेवित क्षेत्र के लोगों के बीच उद्यमिता को प्रोन्नत करता है। संपार्श्विक रहित कवरेज उपलब्धा कराने के लिए भारत सरकार के द्वारा स्टैंड-अप इंडिया के लिए ऋण गारंटी निधि (सीजीएफएसआई) की स्थापना की गई है।

भारतीय निर्यात-आयात बैंक (एक्जिम बैंक)

  •   सूचनात्‍मक

एक्जिम बैंक आयातकों और निर्यातकों को वित्तीय सहायता प्रदान करता है। यह प्रधान वित्तीय संस्था के रूप में देश के अंतरराष्ट्रीय व्यापार को बढ़ावा देने के लिए सामान और सेवा के आयात और निर्यात को वित्तीय सहायता देने वाले संस्थाओं के कार्य को समायोजित करने का कार्य करता है।

आईएफसीआई लिमिटेड

  •   सूचनात्‍मक

यह देश में दीर्घकालिक औद्योगिक और अवसंरचना संबंधी विकास को बढ़ावा देती है।

राष्ट्रीय आवास बैंक (एनएचबी)

  •   सूचनात्‍मक

एनएचबी एक विशिष्ट एजेंसी के रूप में आवासीय वित्तीय संस्था ओं को स्थानीय और क्षेत्रीय दोनों स्त‍र पर प्रोत्साहन प्रदान करने के लिए कार्य करता है और ऐसे संस्थानों को वित्तीय और अन्य सहायता प्रदान करने का भी कार्य करता है।

इंडिया इंफ्रास्ट्राक्चर फाइनेंस कंपनी लिमिटेड (आईआईएफसीएल)

  •   सूचनात्‍मक

आईआईएफसीएल यातायात, ऊर्जा, जल, स्वच्छता, संचार, सामाजिक और वाणिज्यिक अवसंरचना के व्यापक क्षेत्रों में अर्थक्षम अवसंरचना परियोजनाओं के लिए दीर्घावधि वित्त प्रदान करती है।

आईडीएफसी लिमिटेड

  •   सूचनात्‍मक

यह अवसंरचना परियोजनाओं को आस्ति प्रबंधन और निवेश बैंकिंग के साथ-साथ वित्तीय और परामर्श संबंधी सेवाएं प्रदान करती है।

राष्ट्रीय कृषि एवं ग्रामीण विकास बैंक (नाबार्ड)

  •   सूचनात्‍मक

नाबार्ड विशेष लक्ष्य उन्मुख विभागों जिसे तीन भागों अर्थात वित्तीय विकास और पर्यवेक्षण में वर्गीकृत किया जा सकता है, के माध्यम से सशक्त और वित्तीय समावेशी ग्रामीण भारत के विकास के काम में लगाया गया है।

पेंशन निधि विनियामक और विकास प्राधिकरण (पीएफआरडीए)

  •   सूचनात्‍मक

पीएफआरडीए लोगों की वृद्धावस्था आय आवश्यकताओं को सतत आधार पर पूरा करने के लिए राष्ट्रीय पेंशन प्रणाली (एनपीएस) नामक संगठित पेंशन निधि को प्रोत्साहित, विकसित और विनियमित करता है।

भारतीय बीमा विनियामक और विकास प्राधिकरण (आईआरडीए)

  •   सूचनात्‍मक

आईआरडीए बीमा और पुनर्बीमा कारोबार और उससे संबंधित मामालों की सुव्य्वस्थित वृद्धि विनियमित, प्रोत्सा‍हित और सुनिश्चित करती है।

भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई)

  •   सूचनात्‍मक

आरबीआई वित्तीय स्थि‍रता सुनिश्चित करने के लिए बैंक नोट्स के जारी करने और रिजर्व को सुरक्षित रखने, वित्तीय नीतियां बनाने, सरकारी प्रतिभूतियां जारी करने और वाणिज्यिक बैंकों, वितीय संस्थाओं और गैर-बैंकिंग वित्तींय कंपनियों के वित्तीय पर्यवेक्षण को विनियमित करता है।